blogid : 8844 postid : 52

इन रिश्तों को तपने दो

Posted On: 27 Jun, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इन रिश्तों को तपने दो
खूब तपेंगे, कुंदन होंगे
इन्हें जिस्म पर घिसने दो
महकेंगे तो चन्दन होंगे
रोम रोम से बंध जाने दे
जकड़ गए, निर्बन्धन होंगे
छू-छू कर ये गुज़र गए तो
कण कण में स्पंदन होंगे
कभी सामने तुम आये तो
नेत्र बंद कर वंदन होंगे
तुम्हें बनाऊं अगर राधिका
तो हम जसुदानंदन होंगे

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran